All Rights

Archive for the ‘Other Story’ Category

  • ध्वनि प्रदूषण न हिन्दू न मुस्लिम, केवल हानिकारक

    on Jul 14, 17 • in Magazine Issues, Other Story • with No Comments

    अनेकता में एकता जैसी विशेषता के लिए जो भारतवर्ष पूरी दुनिया में अपनी अलग पहचान रखता था वही भारतवर्ष इन दिनों सांप्रदायिकतावादी,जातिवादी तथा क्षेत्रवाद जैसी विडंबनाओं का शिकार हो रहा है। जिस देश के अधिकांश लोग धर्मनिरपेक्ष तथा उदारवादी माने जाते रहे हों उसी स्वर्गरूपी देश में इन दिनों नफरत,वैमनस्य तथा हिंसा का ज़हर घुलता जा रहा है। इसके लिए तरह-तरह के बहाने तलाश किए जा रहे हैं। वर्ग विशेष के लोग अपने ही समाज के किसी दूसरे वर्ग के लोगों पर निशाना साधने के कोई न कोई बहाने तलाश कर रहे हैं। ऐसे वातावरण

    Read More »
  • वाटर फुटप्रिंट ही तीसरे विश्वयुद्ध से बचाएगा

    on Jun 28, 17 • in Magazine Issues, Other Story • with No Comments

    water footprint

    क्या है वाटर फुटप्रिंट वाटर फुटप्रिंट शब्द सुनते ही सबसे पहला सवाल यही दिमाग में आता है कि वाटर  फुटप्रिंट है क्या? हमारे प्रतिदिन के बहुत से उत्पादों में आभासी या छुपा जल शामिल होता है. उदाहरण के लिए, एक कप कॉफी के उत्पादन के लिए आभासी पानी की मात्रा 140 लीटर तक होती है. आपका वाटर  फुटप्रिंट केवल आपके द्वारा प्रयोग किए गए प्रत्यक्ष पानी (उदाहरण के लिए, धुलाई में) को ही नहीं दिखाते, बल्कि आपके द्वारा उपभोग किए गए आभासी पानी की मात्रा को भी दर्शाता है. दो  आकड़े हैं. एक 1951 का

    Read More »
  • कौन थे विनोद खन्ना : अभिनेता, सन्यासी और राजनेता ?

    on Jun 18, 17 • in Magazine Issues, Other Story • with No Comments

    vinod khanna

    बॉलीवुड के सदाबहार ऐक्टरों में से एक विनोद खन्ना ने कई भूमिकाएं निभाईं जिसके कारण वह पिछले चार दशक से लोगों के दिलो-दिमाग पर छाये रहे हैं। उन्होंने धर्मेन्द्र के साथ मेरा गांव-मेरा देश, राजपूत और क्षत्रिय जैसी फिल्में की जिनकी कहानी बीते हुए ज़माने, गांव और डाकुओं के इर्द-गिर्द घूमती थी। बाद में उन्होंने अमिताभ बच्चन के साथ एक सुपरहिट जोड़ी बनाई जिसमें हेराफेरी, परवरिश, खून-पसीना और मुकद्दर का सिकंदर जैसी फिल्में शामिल रहीं। जब भी विनोद खन्ना की चर्चा होती है तो सबसे पहले मेरे ध्यान मे आता है बॉलीवुड की फिल्म ‘बंटवारा’

    Read More »
  • किसने मारा मेरे पिता को?

    on Jun 18, 17 • in Magazine Issues, Other Story • with No Comments

    मैं  बार-बार विस्मया को देख रहा था। उसके भोले और मासूम चेहरे के पीछे छिपे दर्द को पढऩे की कोशिश कर रहा था। सोच रहा था कि क्या कोई विचारधारा ऐसी भी हो सकती है जो अपने विरोधियों की बर्बर हत्या तक कर देती है? उसे मासूमों को अनाथ बनाने में जरा भी दया नहीं आती? जब विस्मया से नजरें मिली तो लगा कि मानों वह पूछ रही हो, ‘आखिर आप ने मेरे पिता को क्यों मारा?’ मैंने उसके चेहरे से नजर हटाने की कोशिश की, लेकिन हटा नहीं पाया। मुझे उसके चेहरे पर उसकी

    Read More »
  • कोयलांचल में जारी है हत्याओं का दौर

    on Jun 18, 17 • in Magazine Issues, Other Story • with No Comments

    jharia

    कोयले की अवैध काली कमाई पर वर्चस्व को लेकर झारखंड के कोयलांचल में हत्याओं का दौर लगातार जारी है. कोयलांचल में आठ बड़े गैंग में चार सौ करोड़ रुपए से भी अधिक की रंगदारी को लेकर खूनी खेल चलता रहता है. 29 साल में 340 से भी ज्यादा लोगों की हत्याएं माफियाओं ने कर दी, जबकि छोटे-छोटे प्यादे तो लगभग रोज ही मारे जाते हैं. कोयलांचल में 40 वैध खदाने हैं, जबकि इससे कहीं अधिक अवैध खनन. इन वैध खदानों से लगभग 1.50 लाख टन कोयले का उत्पादन होता है, जबकि इस उत्पादन में लोडिंग,

    Read More »
  • मजदूरों के लिए विपरीत समय

    on Jun 18, 17 • in Magazine Issues, Other Story • with No Comments

    यह एक जटिल समय है, जहां बदलाव की गति इतनी तेज और व्यापक है कि उसे ठीक से दर्ज करना भी मुश्किल हो रहा है. पूरी दुनिया में एक खास तरह की बैचनी महसूस की जा रही है. पुराने मॉडल और मिथ टूट रहे हैं. यहाँ तक कि अमरीका और यूरोप जैसे लोकतान्त्रिक मुल्कों में लोग उदार पूंजावादी व्यवस्था से निराश होकर करिश्माई और धुर दक्षिणपंथी नेताओं के शरण में पनाह तलाश रहे हैं. फ्रेंच अर्थशास्त्री थॉमस पिकेटी ने पहले ही इस संकट की तरफ इशारा कर दिया था, 2013 में प्रकाशित अपनी बहुचर्चित पुस्तक

    Read More »
  • उपेक्षा का शिकार ऐतिहासिक मकबरा

    on Jun 18, 17 • in Magazine Issues, Other Story • with No Comments

    makbara

    महज 10-12 वर्ष पूर्व शेरशाह के ऐतिहासिक मकबरे को देखने के लिए देशी-विदेशी पर्यटक लालायित रहते थे. आज हाल यह है कि स्थानीय लोगों को भी नाक पर रूमाल रखकर मकबरे के बगल से गुजरना पड़ता है. पिछले कई वर्षों से शहर के नालियों की गंदगी तालाब में बहाए जाने से इसकी हालत नारकीय हो गई है. जबकि पटना हाईकोर्ट ने 2007 में ही तालाब में गंदे पानी प्रवाहित करने व मूर्ति विसर्जन पर प्रतिबंध लगा दी थी. इसके बावजूद इस आदेश की आज तक अनदेखी होती रही है. यह हालत उस अंतरराष्ट्रीय धरोहर की

    Read More »
  • “Jio गोलगप्पे वाला” ने शुरू किया अनलिमिटेड प्लान, 100 रुपए में खाइये पेटभर गोलगप्पे

    on May 22, 17 • in Daily_News, Other Story, Sports • with No Comments

    रिलायंस जियो ने जब अपना अनलिमिटेड 4जी प्लान पेश किया था तब यह मोबाइल मार्केट के लिए एक गेम चेंजर साबित हुआ था। ऐसा लगता है कि इस अनलिमिटेड प्लान से ना सिर्फ टेलिकॉम सेक्टर की कंपनियों ने, बल्कि कई अन्य व्यापारियों ने भी सीख ली है। जियो से प्रभावित होकर गुजरात के एक चाटवाले ने भी अनलिमिटेड प्लान की शुरुआत की है। ठेले वाले ने ऐसा कमाई और अपने ग्राहक बढ़ाने के उद्देश्य से किया और यह कारगर भी साबित हो रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पोरबंदर के एक पानी-पूरी बेचने वाले रवि

    Read More »
  • Baahubali 2 beats Dangal

    on May 20, 17 • in Magazine Issues, Other Story • with No Comments

    bahubali2

    The biggest money-maker among Hindi films in the country is not a Bollywood movie any more, but a Telugu film’s Hindi-dubbed version Among its many achievements, the S S Rajamouli-directed Baahubali: The Conclusion now has the distinction of being the highest collecting Hindi language film. At Rs 392 crore (Rs 3.92 billion) (net, after tax), the Hindi dub of the Prabhas and Rana Dagubatti starrer has beaten the record set by Aamir Khan’s December 2016 blockbuster, Dangal, which made Rs 387 crore (Rs 3.87 billion) in its lifetime at the domestic box office. With this,

    Read More »
  • Most common Home Loan problems faced by borrowers in India

    on May 20, 17 • in Magazine Issues, Other Story • with No Comments

    home loan

    Getting a home loan is a lengthy procedure. However simple it might look in the bank’s advertisement, the fact remains that there are a lot of hiccups in the entire process. Here are the 7 most common problems faced by home loan borrowers in India. Each problem is discussed in detail and appropriate remedies are mentioned along with it. The objective of this article is to ensure that your home loan becomes a hassle-free experience. 1 Rejection at the first stage Strange but true, many of the home loan applications do not pass even the

    Read More »
Scroll to top