All Rights

Published on Mar 30, 15 |     Story by |     Total Views :

Pin It

Home » Magazine Issues, National » दो सियासी राजाओं के घर की शादी में एकछत के नीचे सिमटे राजनीतिक धुरंधर

दो सियासी राजाओं के घर की शादी में एकछत के नीचे सिमटे राजनीतिक धुरंधर

मुलायम के पुश्तैनी गांव सैफई में आयोजित भव्य तिलक समारोह में शरीक होने वालों में अन्य विशिष्ट अतिथियों के साथ राजनीति के मैदान में सपा मुखिया के धुर विरोधी प्रधानमंत्री मोदी भी शामिल थे. प्रदेश के राज्यपाल राम नाइक भी मोदी के साथ थे. मुलायम, अखिलेश यादव तथा लालू तिलकोत्सव स्थल पहुंचे मोदी का बेहद गर्मजोशी से स्वागत किया और मंच पर शाल ओढ़ाकर उनकी अगवानी की. इस दौरान प्रधानमंत्री ने यादव परिवार के सदस्यों से खुद जाकर मुलाकात की. सपा मुखिया मोदी को खुद मंच पर लेकर गये.


p34बात-बात पर समाजवाद, समता और गरीब की बात करने वाले लालू प्रसाद यादव की पुत्री और मुलायम सिंह यादव के पौत्र का विवाह राजधानी में शाही अंदाज में हुआ। दूल्हा तेज प्रताप सिंह किसी राज परिवार से संबंध रखने वाले परिवार के सदस्य की तरह बग्गी में सवार होकर अशोक होटल पहुंचा। विवाह समारोह में राष्ट्रपति प्रणव कुमार मुखर्जी और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ-साथ देश के सभी अहम लोग पहुंचे थे। विवाह समारोह में शायद ही कोई नामचीन हस्ती गैर-हाजिर रही हो। विपक्ष और भाजपा विधानमंडल दल के नेता सुशील कुमार मोदी विवाह समारोह में थे। नीतीश कुमार भी शादी में भाग लेने पहुंचे। वे बिहार भवन में ठहरे। इसके अलावा, पूर्व सीएम जीतन राम मांझी भी थे। शादी में वाम दलों के नेता भी आमंत्रित थे। लजीज भोजन इनके अलावा ं समाजवादी पार्टी से जुड़े लोग भी अशोक होटल में मौजूद थे। सबके लिए लजीज भोजन की व्यवस्था थी। पर कुछ लोग यह भी कह रहे थे कि अपने को समाजवादी कहने वालों को इतनी महंगी शादी करने से बचना चाहिए था। मेंहदी की रस्म इससे पहले लालू के परम मित्र प्रेम चंद गुप्ता के दिल्ली के घिटोरनी इलाके में एक फार्म हाउस में लालू की बेटी की मेहंदी और हल्दी की रस्म हुई। 40 एकड़ में फैले इस फार्म हाउस को सजाया-संवारा गया। लालू यादव के परिवार और रिश्तेदारों के अलावा कई सांसद-विधायक कार्यक्रम में शामिल हुए। उधर, मध्य प्रदेश के राज्यपाल राम नरेश यादव भी दिल्ली में मुलायम के पोते और लालू की बेटी के ब्याह में शामिल हुए।

इससे पहले तिलकोत्सव में समाजवादी पार्टी (सपा) प्रमुख मुलायम सिंह यादव और राष्ट्रीय जनता दल (राजद) मुखिया लालू प्रसाद यादव के आपसी राजनीतिक रिश्ते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत अनेक विशिष्ट अतिथियों की मौजूदगी में सपा अध्यक्ष के सांसद पौत्र तेज प्रताप यादव के भव्य तिलकोत्सव के साथ निजी रिश्तेदारी में तब्दील हो गये थे.

मुलायम के पुश्तैनी गांव सैफई में आयोजित भव्य तिलक समारोह में शरीक होने वालों में अन्य विशिष्ट अतिथियों के साथ राजनीति के मैदान में सपा मुखिया के धुर विरोधी प्रधानमंत्री मोदी भी शामिल थे. प्रदेश के राज्यपाल राम नाइक भी मोदी के साथ थे.

मुलायम, अखिलेश यादव तथा लालू तिलकोत्सव स्थल पहुंचे मोदी का बेहद गर्मजोशी से स्वागत किया और मंच पर शाल ओढ़ाकर उनकी अगवानी की. इस दौरान प्रधानमंत्री ने यादव परिवार के सदस्यों से खुद जाकर मुलाकात की. सपा मुखिया मोदी को खुद मंच पर लेकर गये.

लालू और मुलायम के बीच बैठे मोदी ने यादव परिवार के अन्य सदस्यों के साथ फोटो खिंचवायी और दूल्हे तेज प्रताप पर पंखुडियां भी बरसायीं. मंच पर आत्मीयता का ऐसा माहौल था कि अखिलेश और यादव परिवार के बच्चे एक-एक करके प्रधानमंत्री की गोद में जाकर बैठते रहे और मोदी ने भी उन्होंने दुलारने में कोई कोताही नहीं की. मोदी अपने चिर परिचित अंदाज में हौले से बच्चों के कान पकडक़र उनके प्रति आत्मीयता जाहिर करते रहे.

यादव परिवार से जुड़े इस महत्वपूर्ण कार्यक्रम में मोदी की शिरकत से जुड़ा घटनाक्रम इस लिहाज से भी दिलचस्प है कि जहां एक तरफ मोदी से टक्कर लेने के लिए मुलायम और लालू मिलकर जनता परिवार को एकजुट करने में जुटे हैं, वहीं प्रधानमंत्री अपने इन राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों के व्यक्तिगत समारोह में पूरे दिल से शरीक हुए और दोनों धुरंधर यादवों ने मोदी को अपने बीच बैठाया.

मोदी करीब 40 मिनट तक समारोह में मौजूद रहे और उसके बाद वह दिल्ली के लिए रवाना हो गये. उन्हें रखसत करने के लिये खुद मुलायम आगे बढ़ें. लालू यादव ने इस मौके पर कहा, मुझे खुशी है कि मेरी बेटी की शादी पूरे देश में चर्चा का विषय हो गयी है. मुलायम सिंह यादव ने शादी के लिए हमसे एक भी पैसा (दहेज) नहीं मांगा, क्योंकि हमारे दिल मिले हैं. तिलकोत्सव में प्रधानमंत्री की शिरकत के बारे में पूछे जाने पर तेज प्रताप ने कहा, प्रधानमंत्री की इस यात्रा में कोई राजनीति नहीं है. उन्हें शिष्टाचारवश न्यौता दिया गया था और वह हमें आशीर्वाद देने सैफई आये.

इसके लिए हम उनके आभारी हैं. हम मुद्दों के आधार पर उनका विरोध करते हैं, व्यक्तिगत रूप से नहीं. मंत्रोच्चारण के बीच तमाम रस्में अदा करने के लिए रंगीन पर्दों, दरीचों और खूबसूरत झाड़ों से सजाये गये भव्य तिलकोत्सव पंडाल में सवा लाख से ज्यादा लोगों ने शिरकत की. मैनपुरी से सांसद तेज प्रताप यादव की लालू की सबसे छोटी बेटी राजलक्ष्मी से सगाई गत 16 दिसंबर को हुई थी. दोनों का विवाह 26 फरवरी को हुआ.

कभी सपा मुखिया के निकटस्थ रहे पूर्व सांसद अमर सिंह भी तिलकोत्सव समारोह में शामिल हुए. इसके अलावा महानायक अमिताभ बच्चन, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के पूर्व सीएम नारायण दत्त तिवारी तथा उनका परिवार, जनता दल यूनाइटेड के अध्यक्ष शरद यादव, भाजपा सांसद साक्षी महाराज तथा उत्तर प्रदेश मंत्रिमंडल के अधिकांश मंत्री विशेष रूप से मौजूद रहे. मेहमानों के लिए लजीज पकवान, खासकर गुजराती तथा बिहारी व्यंजन तैयार करने के लिए विशेष बावर्ची और खानसामे बुलाये गये. पकवानों में दही का आलू, बाटी चोखा, उलदा पूड़ी, पनीर भरवा, छोले भटूरे वगैरह खासतौर पर शामिल थे.

तिलकोत्व में करीब तीन हजार वीवीआईपी मेहमानों के लिए विशेष इंतजाम किये गये थे. उनके लिए खाना बनाने के वास्ते विशाल रसोईघर बनाये गये थे. विशेष आमंत्रितों की सुविधा के लिए 500 अत्याधुनिक स्विस कॉटेज तैयार किये गये थे. तिलकोत्सव का सजीव नजारा दिखाने के लिए समारोहस्थल पर 10 विशाल एलईडी स्क्रीन लगाये गये थे.

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to top