All Rights

Published on Jul 17, 17 |     Story by |     Total Views : 94 views

Pin It

Home » Daily_News, National, Politics » लालू – मैं किसी की बंदरघुड़की से नहीं डरता

लालू – मैं किसी की बंदरघुड़की से नहीं डरता

महागठबंधन पर मंडराते संकट के बादल के बीच राष्ट्रीय जनता दल के प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने कड़े तेवर अपना लिए हैं. लालू ने साफ कहा कि तेजस्वी यादव डिप्टी सीएम पद से इस्तीफा नहीं देंगे.

बिहार की राजधानी पटना में पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी पर राजद विधायकों की मीटिंग के बाद उन्होंने पत्रकारों से कहा, ‘लालू किसी की बंदर घुड़की से नहीं डरता है.’

‘कोई बयानबाजी नहीं करें’
लालू ने राजद के सभी विधायकों से कहा, ‘इस मसले पर कोई बयानबाजी नहीं करें. साथ ही किसी टीवी चैनल के डिबेट में ना जाएं.’

राजद विधायकों को सावधान करते हुए लालू ने कहा कि 17 जुलाई को होने वाले राष्ट्रपति चुनाव में वोट डालने वक्त सावधानी बरतने की जरूरत है.

उन्होंने कहा, ‘यदि राष्ट्रपति चुनाव में किसी का वोट खराब गया तो अगले चुनाव में उसका टिकट काट दूंगा. चुनाव के दौरान कलम और मोबाइल लेकर नहीं जाना है.’

इससे पहले बिहार में महागठबंधन पर मंडराते संकट के बादल के बीच राष्ट्रीय जनता दल (राजद) ने एक बार फिर स्पष्ट लहजे में कहा कि तेजस्वी यादव अपने पद से इस्तीफा नहीं देंगे. राजद विधायकों की हुई अहम मीटिंग के बाद राजद ने मीडिया को बताया कि पार्टी ने सर्वसम्मति से तय किया है कि तेजस्वी यादव अपना पद नहीं छोड़ेंगे.

सीएम को सच्चाई जानने का हक
इधर, जदयू नेता केसी त्यागी ने साफ किया कि नीतीश कुमार ने अभी तक तेजस्वी से इस्तीफे के लिए नहीं कहा है. सीएम अपने मंत्री से सफाई देने को कह सकते हैं. वैसे सार्वजनिक जीवन में मौजूद लोगों को उच्च आदर्शों को पालन करना चाहिए.

मुख्यमंत्री होने के नाते सरकार के वे मुखिया है, एक घटक के नहीं. ऐसे में अपने सहयोगियों के ऊपर लगे आरोपों की सच्चाई जानने का अधिकार है. वहीं, तेजस्वी को भी अधिकार है कि वो अपने ऊपर लगे आरोपों के पीछे के मंसूबे साफ करें.

जदयू नेता ने कहा कि महागठबंधन की उम्र 2020 तक है. मुझे नहीं लगता है कि ऐसा कोई कारण है, जो इसकी मियाद पहले खत्म हो.

उल्लेखनीय है कि सीबीआई ने पूर्व रेलमंत्री लालू प्रसाद और उनके बेटे तेजस्वी यादव सहित उनके परिवार के सदस्यों के खिलाफ भ्रष्टाचार का वर्षों पुराना मामला अब दर्ज किया है. सीबीआई ने सात जुलाई को पटना सहित देशभर के 12 स्थानों पर छापेमारी की थी.

भ्रष्टाचार के मामले में प्राथमिकी दर्ज होने के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की बेदाग छवि को लेकर जदयू तेजस्वी पर इस्तीफे के लिए दबाव बना रही है.

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to top