All Rights

Published on Oct 23, 17 |     Story by |     Total Views :

Pin It

Home » Daily_News, National, Politics » मेयर की कुर्सी को लेकर भाजपा में घमासान

मेयर की कुर्सी को लेकर भाजपा में घमासान

बरेली। बरेली नगर निगम चुनाव की सरगर्मियां तेज हो गई हैं। सपा के साथ ही भारतीय जनता पार्टी में टिकट हासिल करने के लिए दावेदारों की होड़ मच गई है वहीं बसपा और कांग्रेस मौके की तलाश में हैं। उधर छोटे दल भी बड़े दलों का खेल बिगाड़ने की तैयारी कर रहे हैं। रालोद और आम आदमी पार्टी ने मेयर का चुनाव लड़ने का एलान पहले ही कर दिया है।
दीपावली के धमाल के बाद नगर निगम चुनाव का धूम धमाका शुरू हो गया है। मेयर के चुनाव को लेकर जहां बड़े दलों ने दावेदारों का कद आंकना शुरू कर दिया है वहीं वार्डो में पार्षदी का चुनाव लड़ने के इच्छुक दावेदारों ने तो अभी से अपने बैनर, पोस्टरों के जरिए दीपावली की शुभकामनाएं भी देनी शुरू कर दी हैं।

भाजपा में टिकट को लेकर मची होड़
केंद्ग और प्रदेश की सत्ता पर काबिज भारतीय जनता पार्टी में इस बार टिकट को लेकर सबसे ज्यादा होड़ मची हुई है। माना जा रहा है कि इस बार का चुनाव सपा सरकार में न होकर भाजपा के अधिकारियों की देखरेख में होगा लिहाजा प्रत्याशियों को फायदा मिलना लाजिमी है। सपा में जहां पूर्व मेयर डा. आईएस तोमर, अनिल शर्मा व सपा पार्षद दल के नेता राजेश अग्रवाल के बीच टिकट घूम रहा है वहीं भाजपा में यह फेहरिस्त काफी लंबी मानी जा रही है। भाजपा में जय नारायण विद्या मंदिर के प्रधानाचार्य ब्रज मोहन शर्मा, सिद्धि विनायक इंस्टीट्यूट के संचालक अनुपम कपूर, डा. राघवेंद्ग शर्मा, भारत भूषण शील एडवोकेट, पुष्पेंद्ग शर्मा समेत दर्जन भर से ज्यादा दावेदार लाइन लगाए हैं मगर इनमें से वरिष्ठ  रोग विशेषज्ञ डा. प्रमेंद्ग माहेश्वरी, इनवर्टिस इंस्टीट्यूट के चांसलर उमेश गौतम और पूर्व मेयर प्रत्याशी रहे गुलशन आनंद की दावेदारी काफी मजबूत मानी जा रही है।
डा. प्रमेंद् और उमेश गौतम के बीच रस्साकशी 
सूत्रों की माने तो यूं तो भाजपा में तमाम दावेदार मैदान में आ चुके हैं और पार्टी के संजय नगर कार्यालय से नामांकन पत्र भी खरीद चुके हैं मगर खास दावेदारों में अभी भी डा. प्रमेंद् माहेश्वरी और उमेश गौतम ही हैं। चूंकि गुलशन आनंद पिछला चुनाव डा. आईएस तोमर से हार चुके हैं लिहाजा उनके स्थान पर इस बार इन्हीं दोनों में से किसी एक को टिकट मिलने कयास लगाया जा रहा है। डा. माहेश्वरी पार्टी में लंबे अरसे से काफी सक्रिय भूमिका निभा रहे हैं लिहाजा उनके कद को कम करके आंकना भारी भूल होगी। हां, अगर पार्टी आलाकमान ने पैसे के लिहाज से नापतोल की तो उमेश गौतम भारी साबित हो सकते हैं। यहां बताते चलें कि उमेश गौतम इस बार ऐन केन प्रकारेण मेयर बनने कोे पूरी तैयारी कर चुके हैं। यही नहीं उनके करीबी लोगों की टीम भी सक्रिय हो गई है। ब्राह्मण समाज के लोग भी अभी से उनके टिकट को लेकर काफी उत्साहित हैं।
कूड़ा बन सकता है मुसीबत 
टिकट से पहले भाजपा नेता पूरी तरह से संतुष्ट होना चाहते हैं कि इस बार जीत पक्की होगी लिहाजा वो कोई कोरकसर नहीं छोड़ना चाहते हैं। डा. तोमर के करीबी लोगों का कहना है कि अगर उमेश गौतम को टिकट मिला तो डा. तोमर भारी वोटों से जीत दर्ज करेंगे क्योंकि बीते दिनों सालिड वेस्ट मैनेजमेंट के चलने की राह में रोड़े अटकाने वालों को जनता चुनाव में वोट के जरिए सबक जरूर सिखाएगी। हां अगर टिकट डा. प्रमेंद्ग माहेश्वरी को मिला तो मुकाबला कड़ा हो सकता है क्योंकि डाक्टर और डाक्टरी पेशे से जुड़े मतदाताओं को खुलकर आने में दिक्कत जरूर हो सकती है।
सपा में टिकट को लेकर पड़ सकती है फूट 
भाजपा के कैंप में इस बात के कयास लगाए जा रहे हैं कि अगर डा. तोमर को टिकट दिया गया तो शहर का ब्राह्मण मतदाता डा. अनिल शर्मा के अपमान का बदला जरूर लेगा। यहां बताते चलें कि बीते दिनों जब सपा हाई कमान ने डा. अनिल शर्मा को बरेली मुरादाबाद सीट से एमएलसी का प्रत्याशी घोषित किया था तब डा. आईएस तोमर और तत्कालीन सपा जिला अध्यक्ष वीरपाल सिंह यादव पर आरोप लगे थे कि उन्होंने तत्कालीन नगर विकास मंत्री आजम खां से मिलकर उनका टिकट कटवाकर रामपुर के लोधी को दिलवा दिया है। ऐसे में इस बार भी डा. अनिल शर्मा को टिकट नहीं मिला तो उनके करीबी अंदरखाने सपा प्रत्याशी को नुकसान पहुंचा सकते हैं जिसका फायदा भाजपा प्रत्याशी को मिलना लाजिमी है।
रालोद और आप बिगाड़ेंगे गणित 
रालोद और आम आदमी पार्टी इस बार चुनाव लड़ने का एलान कर चुके हैं जबकि आईएमसी माहौल भांप रही है। इसके अलावा कांग्रेस और बसपा ने अभी तक पत्ते नहीं खोले हैं। माना जा रहा है कि कांग्रेस पूर्व मेयर डा. सुप्रिया ऐरन पर दांव लगा सकती है जबकि बसपा मौके की तलाश में रहेगी। बाकी छोटे दल बड़ों का गणित बिगाड़ने में पीछे नहीं रहेंगे।
-Story by – Sanjeev Gambhir

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to top