All Rights

Published on Sep 7, 15 |     Story by |     Total Views :

Pin It

Home » Interviews, Magazine Issues » एमसीडी में भ्रष्टाचार हो रहा है जिसमें बीजेपी और अफसरों की मिलीभगत है – गीता शर्मा

एमसीडी में भ्रष्टाचार हो रहा है जिसमें बीजेपी और अफसरों की मिलीभगत है – गीता शर्मा

पूर्वी दिल्ली नगर निगम वार्ड न.227 की पार्षद गीता शर्मा से उनके तीन साल के कार्यकाल मे हुये विकास कार्यो एवं निगम की मौजूदा व्यवस्था को ऑल राइट्स के संवाददाता ने साक्षात्कार के दौरान जाना…


allright53सवाल – आप जब इस वार्ड के लिए चुनाव में प्रत्याशी के रूप में आर्इं तो क्षेत्र में क्याक्या समस्या अपने देखीं और कैसे उनका समाधान किया?

जवाब – जब मैं 2012 के चुनाव में इस क्षेत्र की प्रत्याशी के रूप में आई थी, उस समय इस वार्ड में प्रमुख समस्या सफाई की अव्यवस्था थी।  इसलिए हमारा सबसे पहला संकल्प यही रहा कि क्षेत्र में संसाधनों की व्यवस्था को सही किया जाये, जैसे ज्यादा टिपर लगाकर तथा ज्यादा ढलाव घर बनाकर हमने काफी हद तक सफाई से जुड़ी समस्याओं पर कंट्रोल कर लिया है । इसके अलावा वार्ड में पांच टिपर होते है, जिनकी मॉनीटरींग होती है। क्षेत्र में दौरे के समय लोगों से उनकी समस्याओं के बारे में पूछा जाता है, हमने अपने कार्यकाल में सबसे पहले ढलाव घरों पर फोकस किया क्योंकि ढलाव घर अपार्टमेंट के गेट पर थे, और उनकी हालत भी सही नहीं थी जिनको हमने सही करवाया। क्षेत्र मे पार्कों की दिक्कत थी जब 2012 में मैं जीतकर आयी तो उस समय एमसीडी के पास केवल एक पार्क था, बाकि डीडीए के पास थे, जिनमे से तीन एकड़ से छोटे पार्कों को एमसीडी को हैंडओवर कराया और उनकी हालत में सुधार किया गया। इस क्षेत्र की खास बात यह है कि यहां पर सोसायटी एरिया है, इसलिए यहाँ की समस्या कोई खास नहीं रही। एक अन्य कालोनी के मुकाबले यहाँ की जनता को अच्छे पार्क, साफ सफाई व मार्केटों की व्यवस्था अच्छी मिलनी चाहिए, जिनको हमने पूरा किया है। क्षेत्र में निगम से जुड़े सारे कार्यो को बड़े सुचारू रूप से किया जा रहा है।

सवाल – नगर निगम अपने कामों को एनजीओ (संस्था) को दे रही है, क्या कारण है, नगर निगम स्वयं कार्य क्यों नहीं कर पा रही हैं ?

जवाब- इसका कारण यह है कि नगर निगम में नयी भर्ती नहीं हो रही और जो पुराने कर्मचारी हंै, वह हर महीने रिटायर हो रहे हंै, जिससे निगम की मेन्यूअल पावर में कमी होती जा रही है। इसी कारण निगम के कार्य नहीं हो पा रहे है। यह अच्छी बात है की लोग खुद अच्छे संसाधनों के साथ सामने आकर इन कामों को पूरा कर रहे है, यह बहुत अच्छा हो रहा है। इससे लोग अपनस उत्तरदायित्व समझेंगे और इन सामाजिक कार्यो मे अपनी रुचि दिखायेंगे.

 सवाल – आपके क्षेत्र में पार्किंग की समस्या है, उस पर आपका क्या कहना है?

जवाब – हमारा क्षेत्र वेल डेवलप और वेल प्लान्ड एरिया है लेकिन जो प्लान तैयार किया गया था वो बीस-तीस साल पहले का खाका तैयार किया गया था। जो आज के समय फिट नहीं बैठता, क्योंकि उसमे एक परिवार को एक गाड़ी की पार्किंग देने का मैप था लेकिन आज लोगों के पास कई गाडिय़ां होती हैं जिससे पार्किंग कि दिक्कत हो रही है। दूसरी समस्या सीवर की है, इन दो समस्याओं से पूरी दिल्ली परेशान हैं. पार्किंग के लिए हमने एक सुझाव भी दिया था कि पार्किंग की व्यवस्था नाले के ऊपर कर दें क्योंकि पूरी दिल्ली में कहीं पर भी जगह नहीं है जिसमें पार्किंग के लिए जगह  मांगी जाये, लेकिन उस सुझाव को एमसीडी ने नकार दिया।

 सवाल – एमसीडी बजट को लेकर बहुत परेशान रही है, क्या दिल्ली सरकार उत्तरदायी है या एमसीडी?

जवाब – मैं एक बात पूछती हूँ कि जब हम अपना घर चलाते है तो खुद बजट बनाते हंै लेकिन बीजेपी आठ वर्षों से एमसीडी में होने के बाद भी मांग रही है बहुत शर्म की बात है। हमें यह समझ नहीं आता कि इन्होंने अपना सिस्टम इस तरह क्यों नहीं प्लान किया हुआ जिससे अच्छा रेवेन्यू मिल सके। क्यों आप अपने पर अफसर शाही हावी होने दे रहे हैं, अच्छा रेवेन्यू मिल सकता है लेकिन इनकी पॉलिसी सही नहीं है। लोगों को अगर ट्रेड लायसेंस लेना हो तो उनको बहुत परेशान किया जाता है जिससे लोग लायसेंस लेने से बचते हैं। इसके लिए लोग पैसे भी देते हंै जिससे रेवेन्यू में वृद्धि होनी चाहिये, लेकिन भ्रष्टाचार की वजह से लोगों को उनकी रसीद तक नहीं दी जाती है । बीजेपी के बड़े नेताओ ने अफसरों से कह रखा है कि जब तक हम न कहे तब तक रसीद नहीं देनी है, इसके अलावा एमसीडी में बहुत भ्रष्टाचार हो रहा है, इसी कारण एमसीडी में बजट की कमी हो रही है। एमसीडी  मे आये दिन धरने प्रदर्शन होते रहते है जिसके कारण इसको मिनी जंतर मंतर कहा जाने लगा है। बीजेपी के कामों से कोई संतुष्ट नहीं है।

 सवाल – लोगों की शिकायत रही है कि टॉयलेट बहुत कम हंै और है भी तो उनमें सफाई नहीं हो पाती है?

जवाब – टॉयलेट बनाने के लिए सबसे बड़ी परेशानी जगह की आती है, क्योकि सभी को सुविधा चाहिए लेकिन अपने से थोड़ी दूर होनी चहिये। मधु विहार और जोशी कालोनी समुदाय भवन के पास टॉयलेट नहीं होने की हमारे सामने समस्या आई है, जिसे जल्द ही सही जगह का चयन करके टॉयलेट की समस्या का समाधान किया जाएगा।

 सवाल -आप क्षेत्र की जनता को क्या संदेश देना चाहती है?

जवाब – मैं जनता को यही सन्देश देना चाहूंगी कि आपने मुझे 2012 में जिताकर अपने कामों के लिए चुना है, ऐसे ही सेवा का मौका देते रहें और मुझसे कोई कमी हो जाती है, तो मुझे कॉल करें, मेरे नंबर सभी के पास हंै। जो भी समस्या एमसीडी से संबंधित होगी उसका समाधान अवश्य किया जायेगा।

-मुकेश गुप्ता

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to top