All Rights

Published on Aug 18, 15 |     Story by |     Total Views : 24,763 views

Pin It

Home » Magazine Issues, Other Story » विकलांग व्यक्तियों के अधिकार

विकलांग व्यक्तियों के अधिकार

p30विकलांगता क्या है?

अंग क्षति (Impairment)- मानसिक, शारीरिक या दैहिक संरचना में किसी भी अंग का भंग, असामान्य होना, जिसके कारण उसकी कार्यप्रक्रिया में कमी आती हो।

अशक्तता (Disability)- अंग क्षति का उस स्थिति में होना, जब प्रभावित व्यक्ति किसी भी काम को सामान्य प्रक्रिया में सम्पन्न न कर सके।

असक्षमता (Handicap)- इसके कारण व्यक्ति समाज में अपनी भूमिका और दायित्वों का निर्वहन (आयु, लिंग, आर्थिक, सामाजिक और सास्कृतिक कारकों के फलस्वरूप) कर पाने में असक्षम हो जाता है।

विकलांग व्यक्ति (समान अवसर, अधिकार संरक्षण एवं पूर्ण सहभागिता) अधिनियम, 1995-

समान अवसर देने, उनके अधिकारों के संरक्षण और सहभागिता के लिये, जो व्यक्ति 40 फीसदी या उससे अधिक विकलांग है, उसे चिकित्सा विशेषज्ञों द्वारा प्रमाणित किया जायेगा। इसमें दृष्टि हीनता, दृष्टिबाध्यता, श्रवण क्षमता में कमी, गति विषयन बाध्यता शामिल है।

विकलांग व्यक्तियों को अविकलांग व्यक्तियों की तरह समान अवसर का अधिकार और कानूनी अधिकारों की सुरक्षा का अधिकार है ।

जीवन के कार्यों में अविकलांग व्यक्तियों के बराबर पूर्ण भागीदारी का अधिकार है ।

विकलांगों को देखभाल और जीवन की  प्रमुख धारा में उन्हें पुनर्वासित किए जाने का अधिकार है।

केन्द्र और राज्य सरकारों का यह कर्तव्य है कि वे रोकथाम संबंधी उपाय करें ताकि विकलांगताओं को रोका जा सके, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर कर्मचारियों को प्रशिक्षित करें, स्वास्थ्य और सफाई संबंधी सेवाओं में सुधार करें, वर्ष में कम से कम एक बार बच्चों की जांच करें, जोखिम वाले मामलों की पहचान करें, प्रसवपूर्व और प्रसव के बाद मां और शिशु के स्वास्थ्य की देखभाल करें और विकलांगता की रोकथाम के लिए विकलांगता के कारण और बचावकारी उपायों के बारे में जनता को जागरुक करें ।

हर विकलांग के बच्चे को 18 वर्ष की आयु तक उपयुक्त वातावरण में नि:शुल्क शिक्षा का अधिकार है । सरकार को विशेष शिक्षा प्रदान करने के लिए विशेष स्कूल स्थापित करने चाहिए, सामान्य स्कूलों में विकलांग छात्रों के एकीकरण को बढ़ावा देना चाहिए और विकलांग बच्चों के व्यावसायिक प्रशिक्षण के लिए अवसर मुहैया कराने चाहिए ।

पांचवीं कक्षा तक पढ़ाई कर चुके विकलांग बच्चे मुक्त स्कूल या मुक्त विश्वविद्यालयों के माध्यम से अंशकालिक छात्रों के रुप में अपनी शिक्षा जारी रख सकते हैं और सरकार से विशेष पुस्तकें और उपकरणों को नि:शुल्क प्राप्त करने का उन्हें अधिकार है ।सरकार का यह कर्तव्य है कि वह नए सहायक उपकरणों, शिक्षण सहायक साधनों और विशेष शिक्षण सामग्री का विकास करें ताकि विकलांग बच्चों को शिक्षा में समान अवसर प्राप्त हों ।

विकलांग बच्चों को पढ़ाने के लिए सरकार को शिक्षक प्रशिक्षण संस्थान स्थापित करें, विस्तृत शिक्षा संबंधी योजनाएं बनाएं, विकलांग बच्चों को स्कूल जाने-आने के लिए परिवहन सुविधाएं देनी हैं, उन्हें पुस्तकें, वर्दी और अन्य सामग्री, छात्रवृत्तियां, पाठ्यक्रम और नेत्रहीन छात्रों को लिपिक की सुविधाएं दें ।

केन्द्र और राज्य सरकारों का यह कर्तव्य है कि वे रोकथाम संबंधी उपाय करें ताकि विकलांगताओं को रोका जा सके, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर कर्मचारियों को प्रशिक्षित करें, स्वास्थ्य और सफाई संबंधी सेवाओं में सुधार करें, वर्ष में कम से कम एक बार बच्चों की जांच करें, जोखिम वाले मामलों की पहचान करें, प्रसवपूर्व और प्रसव के बाद मां और शिशु के स्वास्थ्य की देखभाल करें और विकलांगता की रोकथाम के लिए विकलांगता के कारण और बचावकारी उपायों के बारे में जनता को जागरुक करें

केंद्र सरकार के कार्यालयों व इसके अधीन सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों के निचले वर्गों (वर्ग ‘ग’ व ‘घ’) के पदों में से 3 प्रतिशत विकलांग व्यक्तियों के लिए आरक्षित हों। यह आरक्षण दृष्टि की, श्रवण की तथा अन्य शारीरिक अक्षमताओं से प्रभावित व्यक्तियों के बीच समान रूप से बंटा हो।

सरकारी और सरकार से अनुदान प्राप्त शिक्षण संस्थाओं को कम से कम 3 प्रतिशत सीटें विकलांगों के लिए आरक्षित करनी होती हैं।

ऐसे कर्मचारी को जो सेवाकाल में विकलांग हो गया है, इस विकलांगता की वजह से काम से नहीं निकाला जा सकता है या पदावनत नहीं किया जा सकता है, लेकिन उसे उसकी वेतन और भत्तों के साथ दूसरे पद पर भेजा जा सकता है। सेवाकाल में शारीरिक क्षति होने पर किसी कर्मचारी को पदोन्नति के अधिकार  से वंचित नहीं किया जा सकता है।

सभी गरीबी उन्मूलन कार्यक्रमों में इस बात की व्यवस्था है कि कम से कम तीन फीसदी लाभार्थी विकलांग वर्ग के हों।

दृष्टिहीनता, श्रवण विकलांग और प्रमस्तिष्क अंगघात से ग्रस्त विकलांगजनों की प्रत्येक श्रेणी के लिए आरक्षण होगा । इसके लिए प्रत्येक तीन वर्षों में सरकार द्वारा पदों की पहचान की जाएगी । भरी न गई रिक्तियों को अगले वर्ष के लिए ले जाया जा सकता है ।

विकलांगजनों को रोजगार देने के लिए सरकार को विशेष रोजगार केन्द्र स्थापित करे।

सभी सरकारी शैक्षिक संस्थान और सहायता प्राप्त संस्थान 3 सीटों को विकलांगजनों के लिए आरक्षित रखेंगे । रिक्तियों को गरीबी उन्मूलन योजनाओं में आरक्षित रखना है ।

नियोक्ताओं को प्रोत्साहन भी देना, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि उनके द्वारा लगाए गए कुल कर्मचारियों में से 5 व्यक्ति विकलांग हैं ।

आवास और पुनर्वास के उद्देश्यों के लिए विकलांग व्यक्ति रियायती दर पर जमीन के तरजीही आवंटन के हकदार होंगे ।

विकलांग व्यक्तियों के साथ परिवहन सुविधाओं, सडक़ पर यातायात के संकेतों या निर्मित वातावरण में कोई भेदभाव नहीं किया जाएगा । सरकारी रोजगार के मामलों में विकलांग व्यक्तियों के साथ कोई भेदभाव नहीं होगा।

सरकार विकलांग व्यक्तियों या गंभीर विकलांगता से ग्रस्त व्यक्तियों के संस्थानों की मान्यता निर्धारित करेगी ।

प्रमुख आयुक्त और राज्य आयुक्त विकलांग व्यक्तियों के अधिकारों से संबंधित शिकायतों के मामलों की जांच करेंगे ।

सरकार और स्थानीय प्राधिकरण विकलांग व्यक्तियों के पुनर्वास का कार्य करेंगे, गैर-सरकारी संगठनों को सहायता देंगे, विकलांग कर्मचारियों के लिए बीमा योजनाएं बनाएंगे और विकलांग व्यक्तियों के लिए बेरोजगारी भत्ता योजना भी बनाएंगे।

छलपूर्ण तरीके से विकलांग व्यक्तियों के लाभ को लेने वालों या लेने का प्रयास करने वालों को 2वर्ष की सजा या 20,000 रुपए तक का जुर्माना होगा ।

राष्ट्रीय न्यास अधिनियम, 1999-

इस अधिनियम के अनुसार केन्द्रीय सरकार का यह दायित्व है कि वह ऑटिज्म, प्रमस्तिष्क अंगघात,मानसिक मंदता और बहु विकलांगता ग्रस्त व्यक्तियों के कल्याण के लिए, नई दिल्ली में राष्ट्रीय न्यास का गठन करे।

केन्द्र सरकार द्वारा स्थापित किए गए राष्ट्रीय न्यास को यह सुनिश्चित करना होता है कि इस अधिनियम की धारा 10 में वर्णित उद्देश्यों पूरे हों ।

राष्ट्रीय न्यास के न्यासी बोर्ड का यह दायित्व है कि वे वसीयत में उल्लिखित किसी भी लाभग्राही के समुचित जीवन स्तर के लिए आवश्यक प्रबंध करें और विकलांगजनों के लाभ हेतु अनुमोदित कार्यक्रम करने के लिए पंजीकृत संगठनों को वित्तीय सहायता प्रदान करें ।

अधिनियम के उपबंधों के अनुसार, विकलांग व्यक्तियों को स्थानीय स्तर की समिति द्वारा नियुक्त संरक्षक की देखरेख में, रखे जाने का अधिकार है । नियुक्त किए गए ऐसे संरक्षकों उस व्यक्ति और विकलांग प्रतिपाल्यों की संपत्ति के लिए उत्तरदायी होंगे ।

यदि विकलांग व्यक्ति का संरक्षक उसके साथ दुर्व्यवहार कर रहा है या उसकी उपेक्षा कर रहा है या उसकी संपत्ति का दुरुपयोग कर रहा है तो विकलांग व्यक्ति को अपने संरक्षक को हटा देने का अधिकार है ।

जहां न्यासी बोर्ड कार्य नहीं करता या इसने सौंपे गए कार्यों के कार्यनिष्पादन में लगातार चूक की है,वहां विकलांग व्यक्तियों हेतु पंजीकृत संगठन, न्यासी बोर्ड को हटाने/इसका पुनर्गठन करने के लिए केन्द्रीय सरकार से शिकायत कर सकता है ।

इस अधिनियम के उपबन्ध राष्ट्रीय न्यास पर जवाबदेही, मॉनीटरिंग, वित्त, लेखा और लेखा-परीक्षा के मामले में बाध्यकारी होंगे ।

भारतीय पुनर्वास अधिनियम, 1992-

परिषद द्वारा रखे जा रहे रजिस्टरों में जिन प्रशिक्षित और विशेषज्ञ व्यावसायिकों के नाम दर्ज हैं, उनके द्वारा विकलांगजनों को लाभ पहुंचाना।

शिक्षा के उन न्यूनतम मानकों को बनाए रखने की गारंटी जो भारत में विश्वविद्यालयों या संस्थानों द्वारा पुनर्वास अर्हता की मान्यता के लिए

अपेक्षित है ।

केन्द्र सरकार के नियंत्रणाधीन और अधिनियम द्वारा निर्धारित सीमाओं के भीतर किसी सांविधिक परिषद द्वारा पुनर्वास व्यावसायिकों के व्यवसाय के विनियम की गारंटी।

Related Posts

23 Responses to विकलांग व्यक्तियों के अधिकार

  1. 43%viklang ho 9th pass koi job nahi karta ho agar koi job ho to dela dejeyg

  2. Omendra says:

    Me year she 60/viklang hu.me kun she vibhag me job kar sakta hu.

  3. Pankaj Kumar says:

    kripya viklangta adhikar bill 2016 ke baare me bataye

  4. SURENDRA SAGAR JHANSI says:

    SPECIAL VIKLANG KE LIYE VAINCY KAB TAK AYEGI
    V KIS BIBHAGME
    PLESE SIR BATEY

    MOBILE-9125572141

  5. SURENDRA SAGAR JHANSI says:

    VILANG KO KOI PERSON SATAT HAI YA MARTA HAI TO KISKI TURANT SAHATA LI JASAKTI HAI
    KOI NUMBER HO TO BATAYE KYA ISME KOI
    JAN DHAN HANI KA LABH MILTA HAI
    9125572141

  6. Rajesh Kumar says:

    mi handicap hu 44% mhughi koi subidha mil Sakti hai lift leg SE pidt hu

  7. Vishal says:

    Achaa likha h lakin aaj sarkar ki viklang yojana ki jankari hoti to or achaa hota

  8. Anil Kumar says:

    I am a handicap person with disability of 85% . I am also waiting for job . but there is no job for handicap in any Sarkar.

  9. Anil Kumar says:

    Name – Anil Kumar
    DOB.-12/06/1979
    Disability – 85%
    Mob. No. -9565787917
    Aim- To do some thing for handicap person
    Education – BA , B,ed with English
    Please koi to hum viklango Ka dard samjho
    Koi Sarkar viklang ke bare me nahi sochati hai

  10. मनोहर says:

    सरकार विकलांगो पर कोई ध्यान नहीं दे रही है
    वेचारे विकलांग व्यक्ति क्या कर सकते
    सच में बात तो ये हे की यदि कोई vacancy निकलती है तो वहाँ पर फर्जी विकलांग सर्टिफिकेट वनवाये व्यक्ति अप्लाई कर देते हे और जो वास्तव में विकलांग होता हे वो नोकरी से वंचित रह जाता हे
    और इस गंभीर समस्या पर सरकार कोई ध्यान नहीं दे रही हे
    भली चाहे सरकार का पैसा कोई मंत्री खाले तो सरकार को कोई
    गम नहीं बस सरकार तो ये चाहती हे की ऐसे ही चलने दो
    सभी विकलांग भाइयो से निवेदन हे की विकलांगों का एक संघ बनाकर हम अपना अधिकार लेने के लिए आंदोलन करते है
    प्लीज इस नंबर पर contact(9977377223) कीजिये हम आपकी पूरी मदद करेंगे
    आप सभी के बीच मैं मनोहर लाल आपकी पूरी मदद करूँगा

  11. karan singh says:

    Sir phy.handicap ki21 category h so we want 10% reservation

  12. राकेश अग्रवाल says:

    मेरी उम्र 36 वर्ष है मैं पिछले 12/13 वर्षो से कोई सरकारी या गैर सरकारी नौकरी खोज रहा हूँ पर कोई फायदा नही है। मेरे दोनो पैर बेकार है चल नही सकता हूँ फिर भी जी रहा हूँ इस उम्मीद पर की कभी ते किस्मत को मुझ पर तरस आएगा। सरकार कहती है हमने विकलांगो के लिये बहुत सी योजना बनाई है। उन्हे ये कौन समझाये की योजना सिर्फ कागजो पर ही रह जाती है विकलांगो तक नही पहुँच पाती क्योकी विकलांग योजना केन्र्द तक जाने में अझम है मदद करनी है तो ऐसी करो की हर विकलांग को अपने आप ही फायदा मिले।मेरा मोबाईल नम्बर – 9749648556

  13. Deepak says:

    मेरे पिता जी सेवा काल विकलांग होगये है नोकरी करने के हालत मे नही है
    हको उजित सलाह दीजिए

  14. mahatam says:

    hum 50% vikloang hai B.A pass hai +compter cours bhi kye hai kis vibaag me job mel sakata hai

  15. Avinash says:

    क्या आंख का तिरछापन भी विकलांगता की श्रेणी मे आता है ?

  16. Sir kya pH certificate other state m b valid hota h kya state job m ? Please reply
    Mene civil branch Se diploma Kiya h

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to top